BOOK YOUR APPOINTMENT NOW

CONTACT US: 8114143030,
dr.ranahomoeopathy63@gmail.com

Arthritis

घुटने में दर्द

आर्थराइटिस एक ऐसी बीमारी है जो जोड़ों की स्थिरता और चलने में कमी का कारण बनती है। यह अक्सर बढ़ते उम्र में होती है लेकिन कभी-कभी युवा भी इसका शिकार हो सकते हैं। इसमें जोड़ों की स्नायु, रक्त संचार, और जोड़ों की आंतरिक तंतु को नुकसान पहुंचता है। यह अक्सर घुटनों, हथेलियों, कूल्हों, और कमर में होता है। इसके लक्षण शामिल हैं जैसे कि दर्द, स्थिरता, और सुजन। यह जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है और दिनचर्या को प्रभावित कर सकता है। आर्थराइटिस का इलाज सामान्यतः दवाओं, व्यायाम, और आहार में परिवर्तन के माध्यम से किया जाता है। गंभीर मामलों में, सर्जरी की भी आवश्यकता हो सकती है।

आर्थराइटिस कई प्रकार की हो सकती है, जैसे कि ऑस्टियोआर्थराइटिस, रेहमाटोयड आर्थराइटिस, गठिया आर्थराइटिस, अन्य संबंधित विकार जैसे कि लुपस, अंक्यलोसिंग स्पान्डिलाइटिस, आदि।

  • ऑस्टियोआर्थराइटिस (Osteoarthritis): यह सबसे सामान्य प्रकार की आर्थराइटिस है, जिसमें जोड़ों के कार्टिलेज का क्षय होता है। यह अक्सर ज्यादा उम्रदराज लोगों में पाया जाता है।
  • रेहमाटोयड आर्थराइटिस (Rheumatoid Arthritis): यह एक ऑटोइम्यून बीमारी है जिसमें शरीर के अपने ही रक्त कोशिकाओं का हमला करता है। यह जोड़ों को प्रभावित करता है और अक्सर युवाओं में भी पाया जाता है।
  • [sg_popup id=”989121″ event=”onLoad”][/sg_popup] यह एक प्रकार की पोषाक-संबंधित आर्थराइटिस है जिसमें यूरिक एसिड के उच्च स्तर शरीर में जोड़ों में कच्चे यूरेट के रूप में जमा होते हैं।

आर्थराइटिस के इलाज में दवाओं, प्राकृतिक उपचार, थैरेपी, व्यायाम, और आहार में परिवर्तन शामिल हो सकते हैं। इसके अलावा, कई बार चिकित्सक विशेषज्ञों की सलाह लेना भी उपयोगी हो सकता है।

 

DR. RANA

We offer online services as well as Offline services.

Follow us!!

© Copyright drranahomoeopathy.in/pvt.ltd

Scroll to Top
हमारे चिकित्सक से अभी बात करे!